Friday, October 14, 2011

तुम आना मत भूलना


तुम इतनी कठोर 
कब से हो गई हो
कि जाने के बाद
नहीं देखती 
मुडकर भी!

एक तो वो दिन था
कि तुम एक पल के लिए भी
नहीं होना चाहती थी दूर
समय के लिए सचेत करती थी
कि फिर मिलना है
अल सुबह दस बजे.

और बार बार कहना
जल्दी आना-जल्दी आना
और कहना-क्या नया?
कब दावत? कब मिलवा रहे हो?
सुना है आपका कोई,
इंतज़ार करती थी
इसी भवन में!

तुम्हारी दिलचस्प बातों से
तुमसे, तुम्हारी अदाओं से
मैं तो यूँ ही, प्यार कर बैठा था
आँखे मूंदे, बिना सोचे, बिना समझे
और शायद तुम भी करती थी
बहुत हद तक.

पर चंद समय की दूरियों ने ही 
ऐसा क्या फासला बढ़ा दिया कि
अब तो तुम्हारा कोई ख़त, सन्देश
फोन भी नहीं आता,
यहाँ तक कि हिचकी भी नहीं!

तुम्हारे नाम की हिचकी का 
इंतज़ार करते करते 
मैं सुबह से शाम कर देता हूँ
मुझे देखते देखते ऱोज
डूब जाता है सूरज.

फिर चाँद निकल आता है
तो तुम्हे आसमान में ताकता हूँ
कि हो सकता है कहीं
तुम्हारे बदन की चांदनी उसमे समाहित हो
और मुझे नज़र आ जाए.

समय चक्र चलता रहता है
फिर अमावास आ जाती है
तुम न आओ, न सही
जब मेरी ज़िन्दगी की अमावास आए
तुम आना मत भूलना...
 

     

16 comments:

  1. बहुत बढ़िया |
    बधाई ||
    http://dineshkidillagi.blogspot.com/

    ReplyDelete
  2. एहसासों की उधेड़बुन में पलते-उमड़ते शब्दों की सुंदर माला बुनी है...... :)

    ReplyDelete
  3. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार के चर्चा मंच पर भी की गई है!
    यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल इसी उद्देश्य से दी जा रही है! अधिक से अधिक लोग आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

    ReplyDelete
  4. फिर चाँद निकल आता है
    तो तुम्हे आसमान में ताकता हूँ
    कि हो सकता है कहीं
    तुम्हारे बदन की चांदनी उसमे समाहित हो
    और मुझे नज़र आ जाए.


    बहुत खूबसूरत एहसास लिखे हैं

    ReplyDelete
  5. बहुत अच्छी रचना.

    ReplyDelete
  6. Bahut behtarin rachna jisme bhavnaon ki gahrai hai. kavita saral evm bhodh gamya hai. Yahi lay banaye rahiye aur apne blog ko nayi bulandiyon par le jayiye.

    ReplyDelete
  7. unusually lovely :)
    last verse was super !!

    ReplyDelete
  8. beharin bhavon se saji behtarin prem kavita...badhayee aaur amantran ke sath

    ReplyDelete
  9. संबंधों में आते समयचक्र के प्रभाव को समझने की कोशिश.

    सुंदर प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  10. पूरी कविता आ गई, एक बड़ी हिचकी की तरह!

    ReplyDelete
  11. उफ़ ………………अब क्या कहूँ।

    ReplyDelete
  12. ओह! बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति है आपकी.
    कुछ उलझती कुछ सुलझती हुई सी.
    सुन्दर प्रस्तुति के लिए आभार.

    मेरी नई पोस्ट पर आपका स्वागत है.

    ReplyDelete