Wednesday, April 7, 2010

मेरी ही गुस्ताखियाँ

चला ही जा रहा हूं मैं न मालूम रास्ता है किधर
भटकाए जा रही है मेरी ही गुस्ताखियाँ

छा रही है हर तरफ लफ़्ज़ों की खामोशियाँ
जुबाँ न हिलने देती हैं मेरी ही गुस्ताखियाँ

न दिन को चैन मिलता है न रातों को करार
ख्वाब अधूरे दिखला रही हैं मेरी ही गुस्ताखियाँ

ना दिल में कोई बात है न लबों पर अलफ़ाज़
अश्कों से ख़त लिखवा रही हैं मेरी ही गुस्ताखियाँ!!!

12 comments:

  1. janaab "ghonchu" ka pranaam swikaar kare kintu aapki gustahkhiyan humko bhaut pyaari lagi yun hi karte rahiye hum maaf bhi kartey rahenge !bharhaal , rajasthaan se hai aap bhi hum bhi to yun bhai bhai mein kaisa maafi shabd ! bahoot khoob ji

    ReplyDelete
  2. छा रही है हर तरफ लफ़्ज़ों की खामोशियाँ
    जुबाँ न हिलने देती हैं मेरी ही गुस्ताखियाँ
    waah

    ReplyDelete
  3. aapki antimm line doharatata hu....
    ना दिल में कोई बात है न लबों पर अलफ़ाज़
    अश्कों से ख़त लिखवा रही हैं मेरी ही गुस्ताखियाँ!!!
    .....................or aapki iss abhivakti pe bhi mere paas alfaaz nhi.......so u hav to read my eyes and ya yahaa मेरी गुस्ताखियाँ nahi aapki taarif najar aaegi

    ReplyDelete
  4. ना दिल में कोई बात है न लबों पर अलफ़ाज़
    अश्कों से ख़त लिखवा रही हैं मेरी ही गुस्ताखियाँ!!!


    दिल में बात है तभी तो अश्कों से ख़त लिखे जा रहे हैं देवेन्द्र जी ......!!

    ऐसी भी क्या गुस्ताखी कर दी जनाब ने ....???

    ReplyDelete
  5. छा रही है हर तरफ लफ़्ज़ों की खामोशियाँ
    जुबाँ न हिलने देती हैं मेरी ही गुस्ताखियाँ


    WAH..APKI KHAMOSHIYON ME JUBAN SE NIKALTE SHABDA... APKI GUSTAKHIYON KO DILKASH ANDAZ ME PESH KAR RAHI HE

    ReplyDelete
  6. Khul ke batao yaar, aisi kya gustaakhi kee hai?

    ReplyDelete
  7. गुस्ताखियाँ भटकाती भी हैं तड़पाकर मारती भी हैं. कब, कौन, कहाँ बहक जाय और कहाँ संभल जाय यह तो उसी पर निर्भर करता है।

    ReplyDelete
  8. वाह क्या बात है...अश्कों से ख़त लिखवा रही हैं

    ReplyDelete
  9. Alfaaz aur lekhni aapki gulami karti hain..

    ReplyDelete
  10. मजा आ गया
    जितनी तारीफ़ की जाय कम है
    सिलसिला जारी रखें
    आपको पुनः बधाई
    satguru-satykikhoj.blogspot.com

    ReplyDelete
  11. मजा आ गया
    जितनी तारीफ़ की जाय कम है
    सिलसिला जारी रखें
    आपको पुनः बधाई
    satguru-satykikhoj.blogspot.com

    ReplyDelete
  12. kuch bahut hi acha lag gaya aaj.....
    :)))its me

    ReplyDelete