Tuesday, July 26, 2011

हैरत न कर...

हैरत न कर
जो तुझे देखकर
रुख से पर्दा उठे!
हैरत तो तब है,
जो पर्दा उठे 
गैरत के लिए 
और तू समझे 
तेरे लिए...!!! 

10 comments:

  1. waah kya baat kahi hai........aur tu samjhe tere lie........bahut gehrai hai aapke is rachna me............lajabab.........

    ReplyDelete
  2. बहुत खूब ...अच्छी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  3. क्या बात है ... पर्दा उठे गैरत के लिए ...

    ReplyDelete
  4. वाह ...बहुत खूब ।

    ReplyDelete
  5. .....पर्दा उठे गैरत के लिए
    सुन्दर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  6. क्या बात है....
    लाजवाब.

    ReplyDelete
  7. bahut achcha likha hai.aapke comment ke madhyam se first time blog par aai hoon.thanx for your comment and suggestion I will think about it.

    ReplyDelete